किसान की भूमिका में आए अंतरिक्ष वैज्ञानिक, ऐसे उगती हैं सब्जियां

अंतरिक्ष (Space) में पृथ्वी से हालात बहुत अलग होते हैं. दोनों स्थानों में अंतर के बारे में लोगों के मन में पहला ख्याल हवा की अनुपस्थिति का आता है. लेकिन वैज्ञानिकों के दिमाग में सबसे पहले गुरत्वहीनता सबसे पहले आती है. पृथ्वी की लगभग सभी प्रक्रियाएं ऐसी हैं जो गुरुत्व (Gravity) पर निर्भर हैं इनमें पौधों की वृद्धि विकास भी शामिल है. इसके अलावा कई स्थितियों की वजह से अंतरिक्ष में खेती (Farming in Space) करना मुश्किल काम है. लेकिन इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (ISS) में पिछले कई सालों से खेती के प्रयोग सफलता पूर्वक किए जा रहे हैं. नए प्रयास में वैज्ञानिकों ने वहां मिर्ची की फसल उगाई है.

शुरू से हो रहे थे प्रयोग 1997 में जब से आईएसएस अंतरिक्ष में पृथ्वी की कक्षा में सूक्ष्मगुरुत्व के कई प्रयोग एक के बाद एक किए गए जिसमें ऐसे हालातों में कृषि संबंधी प्रयोग भी अहम थे. वैज्ञानिकों के सामने सबसे बड़ी चुनौती यही थी कि जब पेड़ पौधों में वे प्रक्रियाएं कैसे सक्रिय होंगी जो पृथ्वी पर गुरुत्व पर निर्भर हैं. अब 20 साल से ज्यादा समय से चल रहे प्रयोगों के बाद वैज्ञानिक कह सकते हैं कि वे अंतरिक्ष में सूक्ष्म गुरुत्व के हालातों में फसल उगा सकते हैं.

बनाया नया रिकॉर्ड आईएसएस में वैज्ञानिकों ने हाल ही में मिर्ची की दूसरी फसल उगाई है जो अब तक का सबसे लंबा पौधों वाला प्रयोग था. फ्लाइट इंजीनियर मार्क वेंडे हेइ ने स्टेशन की एडवांस प्लांट हैबिटेट (APH) में चार पौधे उगाकर उसमें 26 मिर्चियों के नमूने हासिल किए. हेई ने अंतरिक्ष में एस्ट्रोनॉट्स द्वारा उगाई जाने वाली सबसे लंबे समय तक की फसल का रिकॉर्ड तोड़ा. एक बड़ी अहम फसल इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन में कृषि आधारित प्रयोगों में प्लांट हैबिटेट-04 या पीएच-04 की बहुत अहमियत मानी जा रही है जहां यह फसल उगाई गई. इस आवास के प्रमुख अन्वेषणकर्ता मैट रोमेन ने बताया कि इस आवास ने अंतरिक्ष में फसल उत्पादन की कला को बहुत आगे बढ़ाने का काम किया है. इस प्रयोग में उन्होंने न्यू मैक्सिको के खेत से मिर्ची हासिल की और स्पेस स्टेशन के अंदर फसल उगाई.

कब हुई थी इस फसल की बुआई यह प्रयोग इस साल जून में शुरू हुआ था. इन बीजों को अंतरिक्ष के आवास में 12 जुलाई को बोया गया था नासा का कहना है कि इस फसल को पनपाने के लिए वैज्ञानिकों ने कड़ी मेहनत की और एक माइक्रोवेव ओवन की जगह पर चार पौधे उगा डाले. जहां अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने इस प्रयोग के पूरे वातावरण पर कड़ी नजर रखी और इनके आवास में जमीन जैसे हालात बनने की पूरी कोशिश की. कब कटी पहली फसल शोधकर्ताओं का कहना है कि कुछ ही हफ्तों में पैधों में फूल लग गए टीम ने आवास स्थान पर पंखों का अलग अलग गतियों पर भी उपयोग किया जिससे पराग फैल सकें. इसके अलावा वैज्ञानिकों ने कुछ परागण या पोलिनेशन अपने हाथ से भी किया. पहली फसल 29 अक्टूबर को काटी गई. इतना ही नहीं वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में ही बनी मैक्सिकन डिश टैको का भी लुत्फ उठाया जिसमें अंतरिक्ष में उगी मिर्ची डाली थी.

उम्मीद से ज्यादा स्वादिष्ट दूसरी फसल में हेई ने पृथ्वी पर लौटने के लिए 12 मिर्च तैयार की. रोमेन ने बताया कि पहली फसल और स्पेस टैको का रोमांच उनके और उनके साथियों में बहुत अधिक था. उन्हें उम्मीद नहीं थी कि टैको इतना स्वादिष्ट बन पड़ेगा क्योंकि सभी सूक्ष्म गुरुत्व के मिर्ची पर पड़ने वाले प्रभाव से पूरी तरह से अनजान थे. पीएच-04 की सफलताके बाद अब वैज्ञानिक और खाने योग्य फसलों को उगाने का काम करेंगे. इस कड़ी में टमाटर और हरी पत्ती वाली फसल का नंबर आ रहा है इसमें कुछ छोटी हरी पत्तेदार और फलीदार सब्जियों का भी नाम है. इसके अलावा नासा की कपास उगाने की भी योजना है. अंतरिक्ष में कृषि लंबे अंतरिक्ष अभियानों के लिए उपयोगी साबित हो सकती है

Leave a Comment