GST काउंसिल ने दी अहम जानकारी-बताया कब तक पेट्रोल-डीज़ल जीएसटी दायरे में आएगा

Spread the love

GST on Petrol and Diesel- अगर जीएसटी दायरे में  पेट्रोल-डीज़ल आ जाता है तो एक झटके में 20-25 रुपये प्रति लीटर तक इनकी कीमतें कम हो जाएंगी. हालांकि, इस पर राज्य और केंद्र सरकार में सहमति नहीं बन पा रही है. क्योंकि, राज्य सरकारों की कमाई का मुख्य जरिया पेट्रोल-डीज़ल पर लगने वाला टैक्स है.

अब खबर आ रही है कि एक जीएसटी काउंसिल ने एक बार फिर से इस मामले को टाल दिया है. काउंसिल का कहना है कि कोरोना अभी तक खत्म नहीं हुआ है. इसीलिए आने वाले दिनों में कमाई घटने की चिंता बनी हुई है.

आपको बता दें कि बुधवार को दिल्ली सरकार ने बड़ा ऐलान करते हुए पेट्रोल के दाम को सस्ता कर दिया है. पेट्रोल पर वैट घटाने का फैसला लिया है. इस फैसले के बाद दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल 8 रुपए तक सस्ता हो जाएगा.

दिल्ली सरकार के इस ऐलान के बाद दिल्ली-एनसीआर में सबसे सस्ता पेट्रोल दिल्ली में मिलेगा. इस ऐलान के पहले तक दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल के दाम 104.01 रुपए थे. जो 8 रुपए प्रति लीटर घटने के बाद करीब 96.01 रुपए लीटर पर आ गए हैं.

क्या केंद्र सरकार को भी पेट्रोल के GST में आने से नुकसान होगा?

पिछले कुछ दिनों पहले आई SBI रिपोर्ट के मुताबिक, जीएसटी के दायरे में आने के बाद पेट्रोल करीब 20-25 रुपये और डीजल करीब 20 रुपये तक सस्ता हो जाएगा.

ऐसा होते ही सबसे पहले राज्यों को भारी नुकसान झेलना पड़ेगा. अभी तक डीजल-पेट्रोल इसी वजह से जीएसटी के दायरे में नहीं आ पाया है, क्योंकि कोई भी राज्य अपना नुकसान नहीं कराना चाहता है.

राज्यों की अधिकतर आय डीजल-पेट्रोल पर लगाए जाने वाले टैक्स से ही होती है, इसलिए राज्य पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने का विरोध कर रहे हैं. इससे केंद्र सरकार को भी करीब 1 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा, जो जीडीपी के 0.4 फीसदी के बराबर है.

2019 में पेट्रोल पर टोटल एक्साइज ड्यूटी 19.98 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 15.83 रुपये प्रति लीटर था. सरकार ने पिछले साल दो बार एक्साइज ड्यूटी को बढ़ाया, जिसके चलते पेट्रोल पर यह बढ़कर 32.98 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 31.83 रुपये प्रति लीटर हो गया.

इस साल के बजट में पेट्रोल पर शुल्क को घटाकर 32.90 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 31.80 रुपये प्रति लीटर किया गया था. इस महीने पेट्रोल और डीजल की कीमतें अपने रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गईं, जिसके चलते पेट्रोल पर 5 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 10 रुपये प्रति लीटर की कटौती की गई.

Leave a Reply

Your email address will not be published.