ई-कॉमर्स के मसौदे से कारोबार में आएगी शुद्धता : कैट

Spread the love

नई दिल्ली । कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने उपभोक्ता संरक्षण (ई-कॉमर्स) नियम, 2020 के मसौदे को उपभोक्ता मंत्रालय द्वारा जारी करने का स्वागत किया है। कैट के अनुसार, इससे भारत में ई-कॉमर्स व्यवसाय के संचालन के तौर-तरीकों को स्पष्ट शब्दों में बताया गया है, जिससे अब विदेशी ई-कॉमर्स कंपनियों के लिए नियमों के साथ खेलने की कोई गुंजाइश नहीं बची है, जैसा कि वे पिछले कई सालों से कर रहे थे। कैट ने कहा कि, जब ये नियम लागू होंगे तो निश्चित रूप से विदेशी वित्त पोषित ई-कॉमर्स कंपनियों के अनैतिक और अतार्किक व्यवसाय प्रथाओं के कारण भारत के अत्यधिक दूषित ई-कॉमर्स व्यवसाय को शुद्ध और एक समान करने का अवसर प्राप्त होगा।
कैट ने आगे कहा कि केंद्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने ई-कॉमर्स के शुद्धिकरण के लिए कैट की मांग को स्वीकार किया है।
कैट के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने नियमों के मसौदे के जारी होने पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि, इसके बाद भारत का ई-कॉमर्स व्यापार पूरी तरह बदल जाएगा। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने छोटे व्यापारियों को हो रही कठिनाइयों को महसूस करते हुए अपने वायदे और उनके द्वारा की गई घोषणाओं के अनुसरण में नियमों का मसौदा तैयार किया है। अब प्रत्येक कंपनी फिर चाहे वो देसी हो या विदेशी ,उसको देश के नियमों और विनियमों का पालन करना अनिवार्य हो जायेगा।
इन नियमों के लागू होने से अब देश का प्रत्येक छोटा व्यापारी भी ई-कॉमर्स को अतिरिक्त व्यवसाय के रूप में अपना सकेगा।
कैट ने उम्मीद जताते हुए कहा कि, अब हर कोई नियमों का पालन करने के लिए आगे आएगा जिससे भारत में ई-कॉमर्स व्यवसाय कई गुना बढ़ जाएगा। इसके अतिरिक्त यह नियम भारत के ई-कॉमर्स को कुछ विदेशी वित्त पोषित ई-कॉमर्स कंपनियों के शातिर चंगुल से मुक्त करेंगे,जो भारत के ई-कॉमर्स व्यवसाय पर हावी होने का निरंतर प्रयास करते रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.