मशरूम से तैयार हुई जैकेट लेदर को करेगी फेल, फर्क करना होगा मुश्किल, जानिए इसे कैसे बनाया गया

Spread the love

अब तक आपने कई तरह की लेदर जैकेट के बारे में सुना होगा, लेकिन जल्‍द ही मशरूम (फंगस) से भी इसे तैयार किया जा सकेगा. लेदर का विकल्‍प बनेगा मशरूम. वैज्ञान‍ि‍कों ने फंगस से खास तरह का मैटेरियल तैयार किया है जिससे जैकेट बनाई जा सकेगी. यह दिखने में लेदर जैसा लगता है. इससे तैयार जैकेट को एक फैशन शो में पेश किया भी कियाजा चुका है. वैज्ञानिकों का दावा है, इस मैटेरियल से जैकेट तैयार करने पर पर्यावरण पर बुरा असर नहीं होगा क्‍योंकि जानवरों की खाल से लेदर तैयार करने पर पर्यावरण को नुकसान पहुंचता है.

फंगस से इस खास मैटेरियल को सैन-फ्रांसिस्‍को की बायोमैटेरियल कंपनी मायकोवर्क्‍स ने तैयार किया है. यह एक तरह का फेक लेदर है. इसे फंगस के ट्यूब आकार वाले फि‍लामेंट से तैयार किया गया है. कंपनी का दावा है, हमने जो मैटेरियल तैयार किया है वो हूबहू लेदर की तरह दिखता है. हमारे बायोमैटेरियल और लेदर में फर्क कर पाना मुश्किल है.

कंपनी के मुताबिक, फंगस से तैयार हुआ मैटेरियल बायो‍डिग्रेडेबल है यानी यह पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाता. इसे तैयार करने के लिए फंगस को बेहद कम खर्च पर छोटी-छोटी ट्रे में उगाया जा सकता है. कंपनी ने इस तकनीक का पेटेंट कराया है और नाम दिया ‘फाइन माइसीलियम’. फंगस से तैयार होने वाले प्रोडक्‍ट को रीशी नाम दिया गया है. इसी को ही कपड़े का रूप दिया गया है.

मशरूम जैकेट से तैयार माइसीलियम बैग को इसी साल अक्‍टूबर में आयोजित पेरिस फैशन वीक के स्प्रिंग कलेक्‍शन 2022 में पेश किया गया था. सोशल मीडिया पर इस मशरूम लेदर की चर्चा है. यूजर्स का कहना है, जैकेट का यह इकोफ्रेंडली विकल्‍प बड़ा बदलाव लेकर आएगा.

कंपनी का दावा है, जानवरों से तैयार किए जाने वाले लेदर से ग्रीन हाउस गैसों का निर्माण होता है जिसका सीधा असर पर्यावरण पर पड़ता है, लेकिन फंगस से तैयार हुए मैटेरियल से ऐसा नहीं होता. इसे वीगन लेदर कहते हैं. इसे पहली बार 2019 में एक फैशन शो में पेश किया गया था. इसे जाने-माने डिजाइनर स्‍टेला मैककार्टनी ने तैयार किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.