कांग्रेस नेतृत्व को बर्दाश्त नहीं ना सुनना, सुझाव को समझते हैं विद्रोह

Spread the love

जम्मू । जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने एक बार फिर से इशारों में राहुल और प्रियंका गांधी के नेतृत्व पर सवाल उठाए हैं। आजाद ने कहा है कि मौजूदा पीढ़ी सुझावों पर ध्यान नहीं देती। उन्होंने यह भी कहा कि भले ही ये सुझाव कांग्रेस के दिग्गज नेता ही क्यों ने दें, लेकिन इसे अपराध और विद्रोह के तौर पर ही देखा जाता है।

कांग्रेस में सुधारों की पैरवी करने वाले 23 नेताओं के समूह का हिस्सा गुलाम नबी आजाद ने कहा, ‘जब राजीव जी ने राजनीति में कदम रखा था, तब इंदिरा गांधी ने हम दोनों को बुलाया और राजीव को कहा कि गुलाम नबी आजाद मुझे भी न कह सकते हैं, लेकिन उस न का मतलब अवज्ञा या अनादर नहीं, यह पार्टी के लिए अच्छा है। आज, कोई भी न सुनने को तैयार नहीं है।

न कहने की वजह से आज आप की अहमियत नहीं रह जाती है। उन्होंने आगे कहा, ‘हम पार्टी के समावेशी सुधार के लिए सुधार देते हैं। हम में से कोई भी पार्टी में पद नहीं चाहता। हम सब बस यही चाहते हैं कि पार्टी के प्रदर्शन में सुधार हो…

यह समय ऐसा है जब सत्ताधारी पार्टी मजबूत है और विपक्ष कमजोर। एक कमजोर विपक्ष सत्ताधारी पार्टी को फायदा पहुंचाता है।’ हाल ही में कांग्रेस के अगले लोकसभा चुनावों में 300 सीट न जीत पाने का दावा करने को लेकर जब आजाद से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा,

अब तक पार्टी को सिर्फ एक बार तब बड़ा बहुमत मिला, जब इंदिरा नेतृत्व कर रही थीं। खुद को पक्का कांग्रेसी बताने वाले आजाद ने अपनी नई पार्टी बनाने की अटकलों को खारिज किया। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि राजनीति में कब क्या हो जाए, यह कोई नहीं जानता।

Leave a Reply

Your email address will not be published.