तीसरी लहर को रोकने के लिए एम्स प्रमुख ने दिए 3 मंत्र, बोले- वायरस गया नहीं , अभी भी है

Spread the love

नई दिल्ली। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने एक बार फिर चेताते हुए कहा कि नियमों की अनदेखी तीसरी लहर को न्यौता दे सकती है। उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में लॉकडाउन, वैक्सीनेशन और कोविड प्रोटोकॉल ही मजबूत हथियार है। गुलेरिया ने कहा कि अगर तीसरी लहर को रोकना है तो इन 3 चीजों का ध्यान रखना होगा
डेल्ट प्लस वेरिएंट को लेकर जताई चिंता
गुलेरिया ने कहा कि यह कहना अभी मुश्किल है कि डेल्टा प्लस वेरिएंट भारत में कोई समस्या पैदा कर रहा है, लेकिन दुनियाभर में जिस तरह से कोरोनावायरस के डेल्ट प्लस वेरिएंट बढ़ रहा रहा है उसे देखते हुए हम सुरक्षा नियमों से समझौता नहीं कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि हमें यह हमें समझना चाहिए कि वायरस गया नहीं , अभी भी है। ऐसे में अगर हम मास्क पहनते हैं, फीजिकल डिस्टेंस का पालन करते हैं, हाथ धोते हैं, भीड़ लगाने से बचते हैं तो कोई भी वेरिएंट फैल नहीं पाएगा।
टीकाकरण पर दिया जोर
इससे पहले गुलेरिया ने कहा था कि यदि कोविड-उपयुक्त व्यवहार का पालन नहीं किया गया और भीड़-भाड़ नहीं रोकी गई तो अगले छह से आठ सप्ताह में वायरल संक्रमण की अगली लहर देश में दस्तक दे सकती है। उन्होंने कहा कि जब तक बड़ी संख्या में आबादी का टीकाकरण नहीं हो जाता, तब तक कोविड-उपयुक्त व्यवहार का आक्रामक तरीके से पालन करने की आवश्यकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.