पेंसिल पर HB, 2B 2H, 9H जैसे कोड तो लिखे देखे होंगे आपने, आज जान लीजिए इनका मतलब क्या होता है

Spread the love

पेंसिल खरीदते समय अक्‍सर आप दुकानदार से कहते होंगे कि HB या 2B वाली पेंसिल चाहिए. कभी सोचा है कि ऐसा क्‍यों करते थे. पेंसिल में HB, 2B 2H, 9H जैसे कोड के मुताबिक, इसकी खू‍बी बदल जाती है. इसका सीधा असर लिखावट, स्‍केचिंग पर पड़ता है, लेकिन इसके बेहतर रिजल्‍ट के लिए कोड को समझना जरूरी है. जानिए इन कोड का पेंसिल की खूबी से क्‍या मतलब होता है…

अगर पेंसिल के लास्‍ट में HB लिखा है तो H का मतलब है हार्ड B का मतलब है ब्‍लैक. यानी HB वाली पेंसिल सामान्‍य डार्क रंग वाली होती है. इसी तरह पेंसिल पर HH लिखा है तो यह बताता है कि यह और अध‍िक हार्ड है. इसी तरह 2B, 4B, 6B और 8B वाली पेंसिल ज्‍यादा डार्क होती हैं.

पेंसिल में ब्‍लैक रंग में दिखने वाली ग्रेफाइट ही तय करती है कि इसकी कोडिंग कैसी होगी. यह जितनी गहरी काली होगी इसकी ब्‍लैकनेस बढ़ती जाएगी. इसे 2B, 4B, 6B और 8B से दिखाया जाता है. यानी 2B के मुकाबले 8B ज्‍यादा गहरी काली होगी.

ऑफिस हो या स्‍कूल, आमतौर पर HB पेंसिल का ही इस्‍तेमाल करने की सलाह दी जाती है क्‍योंकि इसके अंदर मौजूद ग्रेफाइट न तो ज्‍यादा हार्ड होता है और न ही सॉफ्ट. इसलिए HB वाली पेंसिल एक औसत रंग छोड़ती है. इसे सबसे बेहतर माना जाता है.

अलग-अलग कोड वाली पेंसिल का इस्‍तेमाल क्‍यों किया जाता है, अब इसे भी समझ लीजिए. इसे स्‍केचिंग के उदाहरण से समझ सकते हैं. स्‍केचिंग के दौरान चेहरे को हल्‍का शेड देने के लिए 2B वाली पेंसिल का इस्‍तेमाल किया जाता है. वहीं, बालों को आकार और रंग देने के लिए 8B वाली पेंसिल का इस्‍तेमाल करते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.