महंगे खाद का असर, सरकार फर्टिलाइजर सब्सिडी में कर सकती है 50 हजार करोड़ तक का इजाफा

Spread the love

नैचुरल गैस और दूसरे कच्चे सामानों के दामों में तेजी के कारण सरकार फर्टिलाइजर सब्सिडी बिल में इजाफा कर सकती है. क्रिसिल ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि फर्टिलाइजर की कीमत में भारी तेजी आई है, ऐसे में सरकार फर्टिलाइजर सब्सिडी में 62 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर सकती है.

चालू वित्त वर्ष के लिए सरकार ने फर्टिलाइजर सब्सिडी के तौर पर 79530 करोड़ रुपए का ऐलान किया है. माना जा रहा है कि यह बढ़कर 1 लाख 30 हजार करोड़ रुपए तक हो सकता है. सेल्स वॉल्यूम के आधार पर सालाना आधार पर इसमें 10 फीसदी की गिरावट है. फर्टिलाइजर के इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए सरकार इस पर सब्सिडी देती है. फर्टिलाइजर का रिटेल सेल्स प्राइस यानी RSP मार्केट रेट से काफी कम रखा जाता है. मार्केट रेट से RSP जितना कम रहता है वह सब्सिडी के रूप में मैन्युफैक्चरर को जारी किया जाता है.

62638 करोड़ का एडिशनल फंड

पिछले कई सालों से मैन्युफैक्चरर्स का ड्यू लगातार बढ़ता जा रहा था. ऐसे में सरकार ने वित्त वर्ष 2019-20 में 62638 करोड़ का एडिशनल फंड जारी किया था और मैन्युफैक्चरर्स के सब्सिडी एरियर को खत्म किया था.

21328 करोड़ के एडिशनल सब्सिडी का ऐलान

सरकार फर्टिलाइजर सेक्टर को लेकर ज्यादा एक्टिव रहती है. इस सेक्टर को रणनीतिक तौर पर काफी महत्व दिया जाता है. चालू वित्त वर्ष में अब तक फर्टिलाइजर सब्सिडी के रूप में 21328 करोड़ के एडिशनल सब्सिडी का ऐलान किया गया है. इसमें 14775 करोड़ का ऐलान मई के महीने में 6553 करोड़ का ऐलान अक्टूबर के महीने में किया गया था. यह सब्सिडी नॉन यूरिया फर्टिलाइजर के लिए है.

नैचुरल गैस 50 फीसदी तक महंगी हुई

CRISIL के डायरेक्टर नितिश जैन ने कहा कि नैचुरल गैस की कीमत में इस वित्त वर्ष करीब 50 फीसदी तक की तेजी आएगी. फर्टिलाइजर के निर्माण में इसका योगदान करीब 75-80 फीसदी रहता है. नॉन-यूरिया सब्सिडी की बात करें तो रॉ मटीरियल जैसे फास्फोरिक एसिड, अमोनिया की कीमत पहले ही 40-60 फीसदी तक बढ़ चुकी है.

मांग में रहेगी 10 फीसदी तक की गिरावट

राहत की खबर ये है कि इस वित्त वर्ष फर्टिलाइजर की मांग में 8-10 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की जा सकती है. पिछले वित्त वर्ष में इसमें 8 फीसदी की तेजी दर्ज की गई थी और पूरे वित्त वर्ष में यह मांग 66 मिलियन टन रही थी. यह ऑल टाइम हाई है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.