क्या है सुहाग, कौन होती है सुहागन स्त्रीयां जानिए विस्तार से

Spread the love

सुहाग’ पति परमेश्वर के सिवा मुझको……..

वर्तमान मंथन/मनोज जायसवाल :- 

पाणिग्रहण – 

हिन्दू धर्म में जीवन के महती अभिन्न विवाह संस्कार जहां पाणिग्रहण’ अवसर पर सोलह श्रृगारों के बीच जब कोई स्त्री की मांग में पति के हाथों सिंदूर भरा जाता है, इसी पल से वह स्त्रीसुहागन’ कहलाती है। हिन्दू शास्त्र में स्त्रियों के लिए सोलह श्रृंगार बताये गये है। शाेडसाेउपचार से ही निहीत है साेलह श्रृंगार।विवाह के बाद होने वाले सभी व्रत त्योहारों में सोलह सिंगार करने का प्रयास करती हैं। आज कल इतना सिंगार कर पाना थोड़ा असहज भी हो गया है…!कारण अब महिलाएं विवाह के तुरंत बाद ही अपने कर्म क्षेत्र के लिए निकल जाती है। किन्तु मंगल चिन्हों को वे अवश्य अपनाए रखती है.

क्या है मंगलसूत्र और सिदुर का महत्त्व :

मंगलसुत्र और सिंदूर…ये दो प्रतीक चिन्ह वो आजीवन अपनाए रहती है…! मंगलसुत्र उनके सुहाग का प्रतीक होता है,जिसकी रक्षा की खातिर आस्थाओं का व्रत किया करती है। पति जिनके साथ हर पल सुख दुःख में साथ निभाते उस सुनहरे भविष्य की ओर चलते हैं,जिनका वे आकांक्षी होते हैं। यह कहा जाता है कि अलसुबह उठकर किसी सुहागन स्त्री का दर्शन किया जाए तो आपकी किस्मत के द्वार खुल जाते हैं, आपका दिन तो शुभ रहेगा ही साथ ही आने वाला दिन भी शुभ ही रहने वाला है। सबसे बड़े त्यौहार दीपावली पर तो लौकिक मान्यता यह है कि सुहागन स्त्री को भोजन कराते लाल वस्त्र भेंट किए जाने से मनोवांछित कामनाएं पूरी होने की बात भी कही गई है। वो किसी जन्म के साथी थे या नहीं यह काल जाने पर जोड़ियां ऊपर से बन कर आने की बातें अमूमन रूप से किया जाता है। इस बात कितना विश्वास करें? पर मंथन करते पाया कि यदि जोड़ियां ऊपर से बन कर आती हैं तो इस आधुनिक काल में टूटती बिखरती क्यों है? इसके साथ ही यह बात भी विचारणीय कि जोड़ियां एक ही क्यों नहीं बनती। समाज में दो से तीन जोड़ियां क्यों बन जाती है? जितने आधुनिक जितने हाईप्रोफाईल लोग उतने किस्से ! निम्न मध्यमवर्गीय परिवारों के लिए तो भारतीय संस्कृति संस्कारनुरूप स्नेह,आस्था,विश्वास के धागे पर चलता है l

ये रूहों के बंधन :-

एक ऐसा गठबंधन जहां अपनी जीवनचर्या में सिर्फ स्नेह ही नहीं छिटपुट लड़ाई और झगड़ों के बीच स्नेह के ये बंधन साम्य बना कर चलते हैं। तत्संबध में हमें पं.जीवधरप्रसाद दुबे ने बताया कि हां यह कहने के ही बातें है कि जोड़ियां ऊपर से बन कर आती है। असल में तो जोड़ियां यहां ही अपने पसंद से तय किए जाते हैं। जहां तक जोड़ियां टूटने का सवाल है,जो पूजा की जाती है वह भी विधि विधानपूर्वक होना चाहिए। दरअसल मुख्यतः घरों में होने वाले श्रीसत्यनारायण पूजा के साथ दुर्गा पूजा,शिव पूजा आदि पर जिस प्रकार नियम मुताबिक पूजा अर्चना किया जाना चाहिए वह नहीं हो पाता। इसमें सिर्फ पंडित ही नहीं यजमान भी गलती करता है। उन्हें शार्टकट में पूजा चाहिए। एक दिन में नियमबद्व किया जाय तो कम से कम दो पंडालाें में पूजा की जा सकती है,लेकिन यहां 25 गणेश पंडालों में स्थापना कर दी जाती है,जो  संभव नहीं है। ठीक इसी प्रकार शादियों में भी जल्दबाजीपूर्वक ऐसे शुभ कार्य निपटाये जाते हैं। धर्म आध्यात्म पर यदि विश्वास है तो जोड़ियां टूटने का कारण गलत तरीके से पूजा पाठ का होना भी है। प्रेम विवाह में तो ये सब दरकिनार कर दिए जाते है,जिसका यदाकदा हश्र स्वयं देखा जा सकता है कि जितनी जल्दी जोड़ियां बनती है टूटती भी है।

सौभाग्यवती भव जैसा आर्शीवाद दिया जाता है, त्रेता काल में यह आर्शीवाद ही काफी होता था सुहागन स्त्री को आर्शीवाद देने का जिसका लाभ उन्हें होता था। पर अब तो कोई तात्पर्य नहीं रह गया है जहां उन सोलह श्रृंगारों के ‘प्रतीक’ को ही छिपाकर लगाया जाता है,ऐसा कर स्वयं इसे झूठा साबित करने पर तुली होती है। ‘आस्था’ बताया जाता है पर आस्था भी अब दम तोड़ते दिखायी दे रही हैं।

अगर हम देश में सिने कला जगत की बात करें तो वर्ष 1979 में बनी फिल्म ‘सुहाग’ जो उस दशक में सबसे अधिक कमाई करने वाली फिल्म थी। इस प्रकार की फिल्मों का इस दशक में लोग काफी पसंद भी करते थे। शशिकपूर, अमिताभ बच्चन, रेखा,  निरूपाराय, रंजीत, अमजद खान आदि ने इस फिल्म में सशक्त अभिनय निभाया था। आज भी इसकी कहानी लोगों को कायल कर देती है और लोग आज भी उसी चाव से देखा करते हैं। मोहम्मद रफी और लता मंगेशकर के स्वर में इसी फिल्म के गीत अठरा बरस की तू होने को आई रे..आज भी उतना ही मशहूर है। 1986 में प्रदर्शित फिल्म ‘सुहागन’ दमदार कहानियों से ओतप्रोत रही, जिसमें जितेंद्र श्रीदेवी ने सशक्त किरदार निभाया था। 1988 में प्रदर्शित फिल्म गंगा जमुना सरस्वती सशक्त कहानियों से ओतप्रोत वो फिल्म रही जिसके गीत पति परमेश्वर के सिवा मुझको…जैसे गीताें से आज भीसुहागन’ महिलाएं मुग्ध होती है। अमिताभ बच्चन,मिथुन चक्रवर्ती,जयाप्रदा,मिनाक्षी शेषाद्रि ,निरूपा राय,अमरीशपुरी, आदि ने प्रमुख भुमिकाएं निभायी थी।सुहाग पर एक और फिल्म जाे 1994 में रिलीज हुइर् सफलता रिकार्ड ताेडे। इसमें अजय देवगन,करिश्मा कपूर एवं नगमा हैं। फिल्म के गीतों में उदित नारायण एवं अलका याज्ञिक ने स्वर दिये थे जो गीत भी उतने ही सफल रहे। भोजपुरी फिल्म जगत में बनी सुहाग भी लोगों को खूब पसंद आयी।