वर्चुअल कार्यक्रम में सरगुजा और बलरामपुर-रामानुजगंज जिले को मुख्यमंत्री ने दी 324.42 करोड़ रूपए की लागत के 302 कार्यों की सौगात

Spread the love

उत्तर छत्तीसगढ़ में एयर कनेक्टिविटी के लिए एक कदम और, मुख्यमंत्री ने अम्बिकापुर के मां महामाया एयरपोर्ट के उन्नयन कार्य का किया भूमिपूजन

रायपुर। उत्तर-छत्तीसगढ़ में एयर-कनेक्विटी के लिए एक और कदम बढ़ाते हुए आज मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने 44 करोड़ रूपए की लागत से अंबिकापुर के मां महामाया एयरपोर्ट के उन्नयन कार्य का भूमिपूजन किया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सरगुजा में हवाई-सेवाएं शुरु होने ने अंबिकापुर, बलरामपुर, सूरजपुर, कोरिया, जशपुर का विकास तो तेज होगा ही, पूरे प्रदेश के विकास को और अधिक गति मिलेगी। उत्तर छत्तीसगढ़ में एयर कनेक्टिविटी केवल सरगुजा संभाग के लोगों का ही नहीं पूरे छत्तीसगढ़ का सपना है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल आज यहां अपने निवास कार्यालय में आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में सरगुजा और बलरामपुर-रामानुजगंज जिले को 324 करोड़ 42 लाख रूपए की लागत के 302 कार्यों की सौगात दी। उन्होंने सरगुजा जिले में 247 करोड़ 91 लाख रूपए के 107 विभिन्न विकास कार्यों का और रामानुजगंज-बलरामपुर जिले में 76 करोड़ 51 लाख 88 हजार रूपए के 195 विकास कार्यों का वर्चुअल लोकार्पण एवं भूमिपूजन किया।
इस अवसर पर नगरीय प्रशासन एवं विकास मंत्री और सरगुजा जिले के प्रभारी मंत्री डॉ. शिवकुमार डहरिया, उच्च शिक्षा मंत्री और बलरामपुर-रामानुजगंज जिले के प्रभारी मंत्री श्री उमेश पटेल, गृह मंत्री श्री ताम्रध्वज साहू, स्वास्थ्य मंत्री श्री टी.एस. सिंहदेव, खाद्य मंत्री श्री अमरजीत भगत, स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू मुख्यमंत्री निवास में उपस्थित थे। संसदीय सचिव श्री चिंतामणि महाराज, विधायक श्री बृहस्पत सिंह, डॉ. प्रीतमराम कार्यक्रम में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जुड़े।

मुख्यमंत्री ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि हवाई-सेवा शुरु होने से सरगुजा सहित पूरे छत्तीसगढ़ में विकास और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा। अम्बिकापुर से रायपुर और बनारस का सफर भी आसान हो जाएगा। श्री बघेल ने कहा कि बिलासपुर के लोग भी कई वर्षों से वहां हवाई-सेवा शुरु करने की मांग कर रहे थे। जब हमारी सरकार बनी तो उनके इस सपने को पूरा करने के लिए युद्धस्तर पर काम किया गया। आज बिलासपुर के लोगों का सपना साकार हो चुका है। बिलासपुर के बिलासा बाई केंवट एयरपोर्ट से प्रयागराज, दिल्ली और जबलपुर के लिए हवाई-सेवा शुरु हो चुकी है। इसी तरह जगदलपुर के मां दंतेश्वरी एयरपोर्ट से हैदराबाद और रायपुर के लिए नियमित उड़ानें हैं। वहां भी हवाई सुविधाओं के और विस्तार के लिए काम कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि राम वन गमन पर्यटन परिपथ विकास योजना शुरु की गई। पहले चरण में कोरिया से लेकर सुकमा तक 9 पर्यटन केंद्रों में सुविधाओं का विकास किया जा रहा है। इनमें सरगुजा का रामगढ़ और कोरिया का सीतामढ़ी-हरचौका भी शामिल है। सरगुजा का मैनपाट तो अपनी सुंदरता और संस्कृति के लिए पहले से प्रसिद्ध है। नयी सुविधाओं के विकास से उसकी प्रसिद्धी और बढ़ जाएगी। हम पर्यटकों को सिर्फ अपनी प्राकृतिक-सुंदरता और संस्कृति मात्र नहीं दिखाना चाहते, हम उन्हें अपने गांव, खेत और समृद्धि भी दिखाना चाहते हैं। वह दिन भी आएगा, जब लोग हमारे गौठान देखने के लिए भी छत्तीसगढ़ आएंगे।
सुराजी गांव योजना के नरवा-गरवा-घुरवा-बारी कार्यक्रम से गांवों में जिस बदलाव की शुरुआत हुई है, उसकी चर्चा पूरे देश में हो रही है। गोधन न्याय योजना को पूरे देश में लागू करने की मांग की जा रही है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना कोरोना-काल में किसानों का संबल बन गई। राजीव गांधी किसान न्याय योजना ने छत्तीसगढ़ में जो क्रांति की है, उसे देखते हुए हमने अब इस योजना का और विस्तार किया है। श्री बघेल ने कहा कि स्व सहायता समूहों की हमारी बहनों ने गौठानों को छोटे-छोटे उद्योगों में बदल दिया है। जैविक खाद के उत्पादन से लेकर, सब्जी उत्पादन, शहद उत्पादन और साबुन निर्माण जैसे काम वे कर रही हैं। आज हमारी बहनों के चेहरे पर अलग ही तरह का आत्मविश्वास नजर आता है। उन्होंने कहा कि दूसरी लहर के बाद प्रदेश में विकास का जो नया दौर शुरु हुआ है, उसे किसी भी कीमत पर थमने नहीं देना है। कुछ पड़ोसी राज्यों में कोरोना के मामले फिर बढ़ते दिखाई दे रहे हैं। इसे लेकर हम सबको बहुत सावधान रहना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.